January 23, 2021

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

गरीबी और भुखमरी ने एक और जिंदगी को दफन कर दिया। युवक ने सूने घर मे लगाई फासी

दुर्ग। रीतेश तिवारी। दुर्ग जिले के शक्ति नगर में रहने वाला बीस वर्षीय युवक बादल ने मौत को गले लगा लिया। मृतक बॉम्बे आवास के सूने मकान में फांसी लगा कर हमेशा के लिए दुनिया को अलविदा कह दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतक अकेले ही रहा करता था। नौकरी की तलाश में आये दिन कभी इधर कभी उधर भटकता रहता था। दो वक्त की बेरहम रोटी की तलाश में कई जगहों तक सफर करता रहा लेकिन कही भी काम नही मिल पाया। आखिर कर उसने भी जिंदगी की जंग हार कर मौत को अपनाना ही सही समझा और आज सुबह चार बजे खुदकुशी कर ली।

मुहल्ले वालो ने खुली खिड़की से जब अंदर देखा तो मृतक का शव गमछे से झूल रहा था। मोहन नगर पुलिस को सूचना दी गई लेकिन पांच घंटे बीत जाने के बाद भी पुलिस ने फंदे से झूल रहे शव को नीचे नही उतारा। घटना स्थल का निरीक्षण कर पुलिस भी वापस लौट गई। पुलिस के मुताबिक लिखित शिकायत देने के बाद शव का पंचनामा कर पीएम के लिए भेजा जाएगा। कमाल है पुलिस के जवाब भी एक तो गरीबी ने मार डाला दूसरा सरकारी सिस्टम की बेरुखी ने। मानवता भी संवेदनहीन हो चली। कानूनी प्रक्रिया की गुस्ताखी कहे या सिस्टम की लचर वयस्था । पांच घंटे बीतने के बाद भी शव फंदे में झूल रहा और सिस्टम अपनी मस्तानी चाल में चल रहा ।

Spread the love

You may have missed