January 19, 2021

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

ग्राउंड रिपोर्ट: स्थानीय सरपंच सचिव के लापरवाही के चलते झोपडिय़ों में दिन गुजार रहे 35 गरीब परिवार, पीएम आवास के लिए हुए अपात्र

बालोद। एसजी न्यूज। डिलेश्वर देवांगन। बालोद जिले के डौंडी लोहारा विकासखंड के ग्राम पंचायत भेड़ी (लो.) के सरपंच, सचिव व पंचायत के अन्य प्रतिनिधियों के मनमानी के चलते आज गांवो में दर्जनों ग्रामीणों का पक्का मकान का सपना पूरा होने से पहले ही टूट कर बिखर गया जिस सपना की कभी पूरा होने की संभावना भी नहीं है क्योंकि की पीएम आवास के लिए चयनित इन हितग्राहियों का नाम ग्राम पंचायत कार्यलय में सरपंच, सचिव व पंचायत के अन्य पदाधिकारियों द्वारा गुपचुप तरीके से प्रस्ताव लेकर आवास योजना से नाम हटवाने या नाम कटवाने का सिफारिश बकायदा उच्च कार्यालय तक भेजा जा चुका है खासकर गाँव पर बसे अधिकांश आदिवासी परिवारों को पक्का मकान नसीब नहीं हो पाया हैं। आज भी गांव के आदिवासी परिवार झोपड़ीनुमा कच्चे मकान में रहने को विवश हैं।

हर गरीब को पक्का मकान नसीब हो जाये, इसे लेकर समय समय पर कई प्रकार की योजनाएं सरकार ने चलाई इंदिरा आवास की जगह अब पीएम आवास चलाया जा रहा जिसके तहत ग्राम पंचायत भेड़ी(लो.) के भी सैकड़ों लोगों का नाम पीएम आवास के लिए नाम आया जो बात यहाँ के सरपंच, सचिव एवं पंचायत के अन्य जनप्रतिनिधियों को रास नहीं आया और वो दर्जनों ग्रामीणों को इस योजना से वंचित करते हुए हितग्राहियों का नाम काटने का सिफारिश करते हुए बकायदा ग्रामसभा का प्रस्ताव लगाकर उच्च कार्यालय को भेज दिया गया समय बीतने पर यह बात धीरे धीरे पंचायत कार्यालय से बाहर आने लगी और यह पूरे गाँव मे आग की तरह फैल गई अब यह बात तो पूर्व में चयनित हितग्राहियों को नागवार गुजरी तो वहीं ग्रामीणों ने भी पंचायत प्रतिनिधियों के इस भेदभाव पूर्ण रवैये को लेकर सवाल उठाने लगे। जिसे लेकर अब ग्रामीणों में काफ़ी रोष व्याप्त है वही लोगों का पक्का मकान का सपना पूरा होते-होते अधूरा रह गया।

Spread the love

You may have missed