January 27, 2021

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

छत्तीसगढ़ गुंडा डॉक्टर: खुले में पोस्टमार्टम का वीडियो बनाने पर डाक्टर ने पत्रकारों से की गाली-गलौज, मारपीट पर भी हुए उतारू…… पत्रकारों ने लिखित शिकायत कर FIR दर्ज कराने की मांग की… डॉ के ऊपर फर्जी जाती प्रमाण पत्र से नौकरी करने का भी है आरोप…

बिलासपुर 20 फरवरी 2020। एक डॉक्टर ने पत्रकारों से गाली गलौज करते एक डाक्टर का वीडियो वायरल हुआ है। ये वीडियो बिलासपुर से सिम्स का है, जहां डाक्टर उल्लास गुन्नाडे ने टीवी पत्रकार उमेश मौर्य और उनकी कैमरामैन टीम के साथ ना सिर्फ हाथापाई, बल्कि गंदी-गंदी गालियां देते हुए नजर आ रहे हैं। कमाल की बात ये है कि इस दौरान वीडियो में पुलिसकर्मी भी मौजूद हैं,…बीच-बचाव के बावजूद डाक्टर मानने को तैयार नहीं है। इस मामले में अपडेट ये आ रहा है कि पत्रकार उमेश मौर्य और उनके कैमरामैन प्रकाश राव ने डाक्टर के खिलाफ FIR के लिए आवेदन दिया है।

वीडियो और इनपुट: साभार एनपीजी

पुलिस को दी गयी शिकायत में पत्रकार उमेश मौर्य ने बताया है कि वो 19 फरवरी को अमृत मिशन योजना के तहत पाइप खुदाई में श्रमिक की मौत के बाद उसके कवरेज के लिए सिम्स के पोस्टमार्टम हाउस आये थे, जहां डाक्टर उल्लास गुन्नाडे पोस्टमार्टम हाउस के बाहर ही खुले में शव का पोस्टमार्टम कर रहे थे। आरोप है कि जब इस अमानवीय नजारे को वीडियो को रिपोर्टर कैद करने लगे तो डाक्टर हत्थे से उखड़ गये और गाली-गलौज करते हुए हाथापाई पर उतारू हो गये। इस दौरान कैमरामैन का कैमरा भी टूट गया। अन्य फोटोग्राफर और पुलिसकर्मी भी वहां मौजूद थे। इस मामले में पत्रकार उमेश मौर्य, कैमरामैन प्रकाश राव और प्रकाश परिहार ने बिलापसुर में आवेदन देकर डाक्टर के खिलाफ FIR दर्ज करने की मांग की है।

कौन है डॉक्टर उल्लास गुन्नाडे?
डॉक्टर उल्लास गुन्नाडे वर्तमान में बिलासपुर सिम्स मेडिकल कॉलेज में फॉरेंसिक मेडिसिन विभागाध्यक्ष हैं. इसके पहले रायपुर मेडिकल कालेज में इसी विभाग में पदस्थ थे. लगातार विवादों में रहे हैं.

पहले भी किया है किया है अमानवीय व्यवहार, कहा जिस कुत्ते ने काटा उसे लेकर आओ ताड देंगे पोस्टमार्टम रिपोर्ट,
पत्रिका में प्रकाशित एक खबर 16 मासूम की मौत के मामले में डॉ उल्लास गुन्नाडे ने महीनो तक बच्ची के पिता से पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के लिए चक्कर लगाने पर गुन्नाडे जब बच्ची मर गयी तो रिपोर्ट क्या करोगे, पहले उस लाओ जिसने कटा है तब रिपोर्ट देंगे

https://www.patrika.com/raipur-news/raipur-bitten-by-the-dog-get-him-giving-pm-report-1429374/ डॉक्टर के बेतुके बोल, कहा जिस कुत्ते ने काटा, उसे लाओ तब मिलेगा रिपोर्ट

फर्जी जाती प्रमाण पत्र पर कर रहे नौकरी एफआईआर हो चुका है आदेश
18 फरवरी को ही हरिभूमि में प्रकाशित खबर में डॉ उल्लास गोनडे के फर्जी जाती प्रमाण पत्र से नौकरी करने के कारण विभाग ने एफआईआर के आदेश दे चुका है. पुलिस क्यों एफआईआर नहीं कर रही ये जाँच का विषय है. आखिर महीनो बाद पुलिस मामले को दबा कर क्यों बैठी है?

31 जुलाई 2019 को भास्कर में ये खबर छपी थी फिर भी पुलिस ने आज तक कार्यवाही नहीं की है.

रायपुर| मेडिकल कॉलेज में लंबे समय तक सेवाएं देने के वाले डा. उल्हास गोन्नाडे फर्जी जाति प्रमाणपत्र में फंस गए हैं। संचालनालय मेडिकलकोलीगल संस्थान ने जांच के बाद उनकी जाति प्रमाण पत्र को फर्जी मानते हुए पुलिस के केस दर्ज करवा दिया है। मौदहापारा थाने में केस दर्ज किया गया है। पुलिस के अनुसार डा. गोन्नाडे ने 1978 में फर्जी और कूटरचित दस्तावेजों के आधार पर फर्जी जाति प्रमाण पत्र हासिल किया। उसी आधार पर नौकरी हासिल की। जांच में खुलासा होने के बाद केस दर्ज कराया गया। फर्जी जाति प्रमाणपत्र में फंसे डाक्टर पर केस

https://www.bhaskar.com/amp/chhatisgarh/raipur/news/chhattisgarh-news-case-against-doctor-trapped-in-fake-caste-certificate-074004-5132075.html

Spread the love

You may have missed