March 3, 2021

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

छत्तीसगढ़ में तुगलकी फरमान: देश के इतिहास में पहली बार किसी अधिकारी ने स्वतंत्रता/गणतंत्र दिवस की बधाई/शुभकामनाए संदेश पर लगाई रोक

रायपुर(एसजी न्यूज़) देश के इतिहास में संभवतः ऐसा पहली बार हुआ होगा जब किसी अधिकारी ने आदेश पत्र जारी कर स्वतंत्रता दिवस/गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसी भी प्रकार का बधाई या अभिनन्दन संबंधी विज्ञापन संदेश देने पर रोक लगाने का फरमान जारी किया गया है.

इस आदेश को अधिकारी की तानाशाही कहे या मजबूरी लेकिन जिस सरकार में राष्ट्रवाद देशभक्ति को इतना महत्व दिया जाता रहा हो उस सरकार में इस तरह के आदेश निकालना संभवतः सरकार के निर्देश पर तो नहीं होना चाहिए.

बता दें कि सरकार में राष्ट्रीय पर्व मनाने का एक वजट निर्धारित किया जाता है साथ ही हर साल सभी शासकीय कार्यालयों, ग्राम पंचायतो, आंगनवाडी तक को आजादी का पर्व मनाने वाकायदा निर्देश दिया जाता है.

जहा तक विज्ञापन की बात है विज्ञापन देना या न देना विभागों का अपना क्षेत्राधिकार है किन्तु कई सरपंच, जनपद अध्यक्ष, जिला अध्यक्ष, एवं पंचायत निकाय के सदस्य जो निजी तौर पर राष्ट्रीय पर्व पर अपना बधाई संदेश जारी करते है, वे संकट में है कि कही विज्ञापन देना सरकारी आदेश का उलंघन तो नहीं हो जायेगा.

इस आदेश ने एक बहस छेड़ दिया है कि इन विभागों को ऐसी कौन सी मजबूरी होती है कि ये समाचार पत्र पत्रिकाओं को विज्ञापन देने मजबूर होना पड़ता हैं? क्या वो दवाव इतना बढ़ गया कि राष्ट्रीय पर्व का उत्सव बधाई संदेश देने पर रोक संबंधी आदेश देना पड़ा.

एसजी न्यूज़ ने जिला पंचायत बीजापुर में फ़ोन कर आदेश पत्र की सत्यता की जांच की जिसमे यह बताया गया की जिला पंचायत बीजापुर सीईओ डी राहुल वेंकट ने यह आदेश जारी किया है हालाँकि सीईओ से बात नहीं हो पाई.

संचालक, पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री तारण प्रकाश सिन्हा से भी इस बारे में जानकारी हेतु फ़ोन और व्हाट्सअप किया गया किन्तु उनका भी जवाब नहीं मिल सका.

सरकार के राष्ट्रवाद का ढोंग खुल चुका है
इधर कांग्रेस ने इस मुद्दे पर सरकार पर निशाना साधा है, प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता राजेश बिस्सा ने कहा सरकार के राष्ट्रवाद का ढोंग खुल चुका है. जिस सरकार में हमारे राष्ट्रीय पर्व स्वंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस जिसके लिए हमारे पूर्वज बलिदान देकर पाई है उसे मानने पर रोक हो, इससे शर्मनाक इस सरकार के लिए क्या हो सकता है.

Spread the love

You may have missed