January 20, 2021

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

जंगल क्षेत्र में हो रहे हाथियों के हमले से कैसे बचाएं जान माल, वन्य जीव प्रेमी नितिन सिंघवी ने सरकार को दिए सुझाव

रायपुर । एसजी न्यूज़। 2500 वर्ष पूर्व लिखे अर्थशास्त्र मंे उल्लेखित है “हाथी मानव के दोस्त रहे है; फिर भी वन-हाथी और मानव व्यवस्था/बस्ती दोनों बिना किसी टकराव के नहीं रह सकते।” हाथियों के अस्तित्व को हमें अगर रखना है तो मानव-हाथी द्वन्द्व (Human Elephant Conflict-HEC) का कम करने का प्रयत्न करते रहना पडे़गा।

मानव-हाथी द्वन्द्व कम करने के प्रयत्न करने के लिये रायपुर निवासी नितिन सिंघवी ने प्रधान मुख्य वन सरंक्षक (वन्यप्राणी) को सुझाव प्रेषित किया है कि “सफेद और चमकदार चीजें हाथियों को आकर्षित करती है जबकि काला और गहरे हरे रंग के निर्माण प्रतिरक्षा (Immunity) का लाभ उठाते हैं।”

सुझाव के अनुसार मानव-हाथी द्वन्द्व वाले क्षेत्रों में ग्रामीणों के निवासों सहित सभी भवन-मकानों को काले रंग अथवा गहरे हरे रंग से पुतवाने से यह द्वन्द्व कम हो सकता है। इसी के साथ ग्रामीणों को सफेद तथा चमकीली वस्तुएंे जैसे कपड़े, वाहन इत्यादि का उपयोग न करने की सलाह दी जानी चाहिये। शासन द्वारा मानव-हाथी द्वन्द्व क्षेत्रों में बटाई जा रही साड़ियों को गहरे हरे रंग की बटाई जा सकती है। मानव-हाथी द्वन्द्व के क्षेत्रों में मकान को क्षति पहुचांकर अन्न खाने की घटनाऐं तभी कम हो सकती हैं, जब तक कि उन क्षेत्रों के ग्रामीण अन्न को तलघर में Air Tight होने वाले प्लास्टिक के डिब्बों या कोठियों में रखना नहीं चालू करें। विभाग द्वारा मानव-हाथी द्वन्द्व क्षेत्रों में 20-20 KG अन्न भंडार करने वाले प्लास्टिक के डिब्बे आवश्यकतानुसार बंटवाये जा सकते है साथ ही तहखाने/तलघर बनाने की तकनीकी बताई जा सकती है।

Spread the love

You may have missed