January 23, 2021

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

दंतैल नही “गणेश” के नाम से पुकारा जाये हाथी को, धार्मिक संतो ने की पहल की सराहना

कोरबा/रायपुर। एसजी न्यूज। हाथी के भय से परेशान कोरबा के करतला वन क्षेत्र में आम जन में हाथी के नाम की दहशत कम करने उपवनमंडलाधिकारी, वन मंडल दक्षिण कोरबा ने पत्र लिखकर अपने अधिनस्थ अधिकारियों को एक महत्वपूर्ण आदेश दिया है।

प्राप्त पत्र के अनुसार करतला वन क्षेत्र में विचरण कर रहा लोनर हाथी वैन क्षेत्र से निकल कर घरों तक पहुच रहा है जिससे क्षेत्र में भय व्याप्त है, पत्र के अनुसार हाथी मद अवस्था में है। इसे क्षेत्र में दंतैल के नाम से पुकारा जा रहा है जो कि सुनने में ही भयावह लगता है। अधिकारी का दावा है कि हाथी शांत प्रिय जानवर है यह मानव को तभी हानि पहुचाता है जब कोई उसके सामने आ जाये। वो भी डर के कारण विचलित होकर हानि पहुचाता है। हाथी वन के लिए बहुत ही लाभदायक है। विभिन्न पेड़ो के बीज कहकर लीद (गोबर) वन में फैलता है जिससे नए पौधे आते हैं।

गांवो के भीतर आने की वजह हाथियों को आकर्षित करने वाली मूलतः कटहल, केला आदि की खेती है। जिसे खाने के लिए गांव के अंदर आ जाते हैं और घरों को भी नुकसान पहचाते हैं।

अधिकारी ने पत्र में सुझाव दिया है कि हाथी को दंतैल की जगह “गणेश” नाम से बुलाया जाए और गांवो में इसी नाम से प्रचार प्रसार किया जाए, चूंकि गणेश नाम हमारे धार्मिक आस्था से भी जुड़ा है इससे लोगों में हाथी के नाम से डर कम होगा।

धार्मिक पंडितों ने इस कदम को बताया सराहनीय
धार्मिक आस्था से जुड़े पंडितो का मानना है कि हाथी की पूजा हिन्दू धर्म मे शुरू से रही है। हिन्दू धर्म मे गणेश भगवान का दर्जा दिया गया है। अगर हाथियों को गणेश भगवान का नाम दिया जाए तो यह अच्छा कदम होगा।

Spread the love

You may have missed