March 3, 2021

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

नान घोटाला में आईएएस आलोक शुक्ला और अनिल टूटेजा के खिलाफ चालान किया गया पेश

रायपुर। छत्तीसगढ़ के बहुचर्चित नागरिक आपूर्ति निगम (नान) घोटाले में एंटी करप्शन ब्यूरो और आर्थिक अपराध ब्यूरो ने बुधवार को दो आइएएस डॉ आलोक शुक्ला और अनिल टुटेजा के खिलाफ पूरक चालान पेश किया। कोर्ट ने आलोक शुक्ला और अनिल टुटेजा को पेश होने के लिए नोटिस जारी किया था, लेकिन दोनों अधिकारी पेश नहीं हुए। इसके बाद दोनों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया गया है।

एसीबी एसपी मनीष शर्मा ने बताया कि कोर्ट में 16 आरोपियों के खिलाफ पांच हजार पेज का चालान पेश किया गया था। आलोक शुक्ला और अनिल टुटेजा के खिलाफ 35 पेज का पूरक चालान पेश किया गया है।

एसीबी के आला अधिकारियों ने बताया कि कोर्ट की ओर से वारंट जारी होने के बाद अब दोनों अधिकारियों की जल्द गिरफ्तारी होगी। नान घोटाले में 294 गवाह बनाए गए हैं। चालान पेश होने के साथ ही अब इनकी गवाही की प्रक्रिया भी शुरू होगी। कुछ दिनों पहले ही कोर्ट ने अनिल टुटेजा की अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया था, जिसके बाद से ही गिरफ्तारी की तलवार लटक गई थी।

पीडीएस के सस्ते चावल में हुआ था घपला

एंटी करप्शन ब्यूरो और आर्थिक अपराध ब्यूरो ने नान के माध्यम से सार्वजनिक वितरण प्रणाली में एक रुपये किलो बंटने वाले चावल में करोड़ों का घोटाले का राजफास किया था। 12 फरवरी 2015 को नागरिक आपूर्ति निगम के मुख्यालय सहित 28 ठिकानों पर कार्रवाई के दौरान 12 अधिकारियों-कर्मचारियों के पास से तीन करोड़ 64 लाख रुपए से ज्यादा की राशि बरामद की थी। नान मुख्यालय में प्रबंधक शिवशंकर भट्ट के कार्यालय से एक करोड़ 76 लाख रुपए नगद मिले थे।

छापे में बरामद हुई थी राशि

छापे में सतीश कैवर्त्य के पास से डेढ़ लाख, सुधीर भोले से 72 हजार, केके यदु से 24 लाख, संदीप अग्रवाल से 35 लाख, टीडी हरचंदानी से चार लाख, क्षीरसागर पटेल से ढाई लाख, दिलीप कुमार शर्मा से 23 लाख 76 हजार, आरएन सिंह से सात लाख, डीएस कुशवाह से 6 लाख 82 हजार और आरपी पाठक से 11 लाख स्र्पये बरामद हुए थे।

इन अधिकारियों की हुई थी गिरफ्तारी

एसीबी ने शिवशंकर भट्ट, टीकमदास हरचंदानी, क्षीरसागर पटेल, सतीश कैवर्त, कौशल किशोर यदु, संदीप अग्रवाल, दिलीप कुमार शर्मा, रविंद्र नाथ सिंह, देवेंद्र सिंह कुशवाह, रामफूल पाठक, अशोक सोनी और सुधीर कुमार भोले को गिरफ्तार किया था।

Spread the love

You may have missed