March 3, 2021

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

वकील के साथ नरेंद्र

पंचायत चुनाव का रिकॉर्ड: पहली बार हुआ ऐसा, एक साल से जेल में बंद कैदी ने जेल से ही भारी मतों से जीत गया चुनाव, लगातार दूसरी बार बना सरपंच, जानिए क्या है मामला….

रायपुर, 4 फरवरी 2020 । जनता का मूड है साहब! आपको यह जानकर हैरानी होगी की केंद्रीय जेल में बंद एक विचारधीन कैदी जेल की चार दीवारी से सरपंच चुनाव लड़ा और प्रचंड मतों से जीत भी दर्ज की। प्राप्त जानकारी के अनुसार पहली बार प्रदेश के पंचायत चुनाव में ऐसा हुआ हैं। जब कोई कैदी जेल से पंचायत चुनाव जीता है.

दरअसल प्रदेश के तिल्दा निवासी विचारधीन कैदी नरेंद्र यादव ने पंचायत चुनाव में जेल से ही सरपंच चुनाव लड़ने का मन बनाया और जेल से नामांकन दाखिल किया,जेल में रहते हुए ही चुनाल लड़ा और जब मतगणना हुई तो यह बंदी रिकार्ड मतों से चुनाव जीत गया। आपको बता दें यह शख्स नरेन्द्र यादव लगातार दूसरी बार अपने गाँव सढ्डू से सरपंच बना है।

मिली जानकारी के अनुसार नरेन्द्र बीते 1 साल से जेल में बंद है। 1 साल पहले उसकी पत्नी सुनीता यादव ने आत्महत्या कर ली थी। सुनीता के पास से सुसाइड नोट बरामद भी हुआ था, जिसमे लिखा था कि वो अपनी मर्जी से यह कदम उठा रही है। इस घटना के बाद मृतका के मायके वालों ने नरेन्द्र और उसके परिवार पर केस कर दिया। पुलिस ने नरेन्द्र के ख़िलाफ़ धारा 304 b आईपीसी 34 के तहत मामला दर्ज कर परिवार के सभी सदस्यों को गिरफ्तार किया गया था। नरेंद्र यादव को छोडकर बाकी परिवार के सदस्य जमानत पर बाहर है। मामले की सुनवाई एडीजे सुरेश जून की कोर्ट में जारी है।

विधिक रूप से जिला निर्वाचन अधिकारी से अनुमति लेकर नरेन्द्र का नामांकन फार्म भरा था। नरेन्द्र के सामने 4 अन्य उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे थे। लेकिन विजयी नरेन्द्र ही हुई। कुल 1540 मतदाताओं ने मतदान किया था। इसमें नरेन्द्र को 799 मत मिले। उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी को 291 मतों से हराया। वे लगातार दूसरी बार सड्ढू के सरपंच बने हैं।

Spread the love

You may have missed