January 19, 2021

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

प्रदेश के कद्दावर मंत्री के गृह ग्राम से गुम हुई 5 साल की मासूम बच्ची का पुलिस 14 दिन बाद भी नहीं लगा पाई कोई सुराग। रीवा क्या पूरे प्रदेश में बहन बेटियां नही है सुरक्षित-ऋतुराज चतुर्वेदी

रीवा। रीतेश तिवारी। रीवा जिले के थाना मऊगंज क्षेत्र के गांव ढेरा जो की प्रदेश के कद्दावर मंत्री राजेंद्र शुक्ला का गांव है, जहा अक्सर मंत्री जी के साथ साथ कई अधिकारी पुलिस वाले गांव में आये दिन दस्तक देते रहते है। मंत्री के गृह ग्राम से एक मासूम बच्ची जिसकी उम्र महज पांच साल की थी जो अभी ठीक से बोल भी नही पा रही थी, अचानक गांव से गुम हो गई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के स्कूल चले अभियान के तहत पहले ही दिन स्कूल में कदम रखने घर से निकली थी। स्कूल तक पहुंची और कुछ घंटे अन्य बच्चो के साथ खेल भी खेली लेकिन जैसे ही स्कुल का इंटरवेल हुआ बच्ची लापता हो गई। परिजन जब बच्ची को लेने स्कूल पहुंचे तो बच्ची गायब थी। काफी खोजबीन करने के बाद मासूम का कोई पता नही चला किसी अनहोनी की शंका न हो इसको लेकर मासूम बच्ची के परिजन तत्काल पुलिस कंट्रोल रूम 100 नबर पर घटना की पूरी जानकारी दी। पुलिस समेत कई अधिकारी घटना स्थल पहुंचे कई लोगो से पूछताछ भी की, लेकिन मासूम बच्ची का कोई सुराग नही मिला। मंत्री के गांव से लापता हुई मासूम की खोज करने खुद जिले के एसपी घटना स्थल में दो दिनों तक डेरा डाल कर रखे थे लेकिन मासूम की कोई खबर नहीं मिली। एसपी ने टीम गठित कर कई जगहों पर दबिश दी लेकिन हाथ खाली ही लौटे। दर्जनों संदिग्धों को कई दिनों तक थाने में बैठा कर कड़ी पूछताछ भी की लेकिन बच्ची की कोई खबर नहीं मिली। 16 जुलाई से मासूम कहा है किस हाल पर है ये किसी को नहीं पता।

14 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस के आला अफसरों को कोई सुराग नही मिला। गांव से लापता मासूम बच्ची आखिर गई कहा ? एसपी के कमान सभालने के बाद भी कोई क्लू न मिलना 14 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली क्यों है ?मंत्री राजेंद्र शुक्ला को भी घटना से अवगत कराया जा चुका है लेकिन मंत्री खामोश क्यों है? स्पेशल जाँच टीम क्यों घटित नही की गई।

मंत्री के गृह गांव से पहले भी लापता हो चुकी कई नाबालिक लड़किया ?

सूत्रों की माने तो कई नाबालिक बच्चिया पहले भी ढेरा गांव से गुम हो चुकी है जिनकी उम्र महज 13 साल से 16 साल के बीच थी। परिजनों ने मऊगंज थाने में लिखित शिकायत भी दर्ज कराइ थी लेकिन उनका भी आज तक कोई खबर नहीं मिली।

सरकार चुनावी माहौल बनाने में जुटी हुई है, किन्तु एक माँ जिसकी मासूम बच्ची 14 दिनों से लापता हो उस माँ पर क्या बीत रही होगी। तसल्ली की जरुरत नहीं उस माँ को जरुरत है उसकी मासूम बच्ची को खोजने की जिसकी एक झलक देखने को पूरा परिवार तड़फ रहा है।

रीवा क्या पूरे प्रदेश में बहन बेटियां नही हैं सुरक्षित
कांग्रेस के युवा नेता ऋतुराज चतुर्वेदी ने कहा कि प्रदेश की सुरक्षा व्यवस्था पूरी तरह बदहाल है। प्रदेश भर में बहु बेटियों के साथ बलात्कार अपहरण की रोज घटनाये होती है किंतु मध्यप्रदेश शासन और प्रशासन आंख और कान बंद करके बैठा है। हम पुलिस प्रशासन से मांग करते है की दो दिन के अंदर बच्ची का पता लगाएं अन्यथा हम विरोध प्रदर्शन को करने करने मजबूर होंगे। जिसकी जिम्मेदारी पुलिस प्रशासन की होगी।

विज्ञापन

Spread the love

You may have missed