January 27, 2021

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

बावरिया बोले पार्टी की आंतरिक खबरें किसी हालत में नहीं हों लीक, रीवा दौरे के दौरान जनेताओं को दी हिदायत

रीवा। शोमवर को रीवा में कांग्रेस बैठक में हुई धक्का मुक्की के बाद कांग्रेस की चुनावी तैयारियों की खबरें लीक होने को लेकर प्रदेश संगठन प्रभारी दीपक बावरिया ने कहा है कि इस पर सख्ती के साथ रोक लगाने की जरूरत है। पार्टी की नीतियां क्रियान्वित होने से पहले ही अखबारों की सुर्खियां बन रही हैं। महत्वपूर्ण बैठकों में मीडिया की नो-इंट्री करें और बैठक समाप्त होने के बाद जरूरत के हिसाब से प्रेसनोट जारी करें।

दिल्ली रवाना होने के लिए रेलवे स्टेशन पहुंचे बावरिया ने काफी देर तक पार्टी के ग्रामीण अध्यक्ष त्रियुगीनारायण शुक्ला और शहर अध्यक्ष गुरमीत सिंह मंगू से चर्चा की। कहा कि नेताओं को यह हिदायत दें कि बेवजह की बयानबाजी करने से बचें और जनता के बीच अधिक से अधिक कार्यक्रम हों। इस दौरान कांग्रेस नेता राजेन्द्र मिश्रा, मुजीब खान, समर्थ सिंह, संदीप पटेल, गिरीश सिंह, रमाशंकर पटेल, विवेक तिवारी, लखनलाल खंडेलवाल, राकेश तिवारी, धु्रव सिंह, कुंवर सिंह, शिवप्रसाद प्रधान, मुस्तहाक खान, अशफाक अहमद, गुरुप्रसाद तिवारी, विद्यापाल गौतम, राजेश मिश्रा बब्बू, अनुपम तिवारी सहित अन्य मौजूद रहे।

रेलवे स्टेशन में मिलने पहुंचे कांग्रेस के कई नेताओं ने वहीं पर ही टिकट की दावेदारी फिर पेश कर दी। चंद्रमणि शुक्ला ने कहा कि मैं पार्टी का कर्मठ कार्यकर्ता हूं, हमने सड़क जाम की तो मुकदमे लगे थे। मंत्री को वापस लौटना पड़ा था। नेता प्रतिपक्ष ने इसी बीच पूछ लिया कि कब की घटना है तो बोले की तीन साल पहले की। तब कहा कि नया कुछ करिए। इसी दौरान अन्य कई नेताओं ने जल्दी-जल्दी अपना परिचय बताना शुरू कर दिया। बावरिया ने कहा कि काम करो, हमें पता चल जाएगा बताने की जरूरत नहीं है।

कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी के रेलवे स्टेशन पहुंचने से पहले नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह मौजूद थे। वह किनारे खड़े थे, इस कारण बावरिया उनसे मिलने के लिए वहीं पर जा पहुंचे और काफी देर तक नेताओं में चर्चा हुई। ट्रेन जाने का समय हुआ तो दोनों उसमें सवार होकर दिल्ली रवाना हो गए।

जनता को सुरक्षा दे सरकार
कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया के साथ कार्यकर्ताओं द्वारा की गई धक्का-मुक्की ने राजनीतिक सरगर्मी बढ़ा दी है। गृहमंत्री भूपेन्द्र सिंह ने भी सहानुभूति जताई है और कहा कि वह चाहें तो सरकार सुरक्षा देने को तैयार है। सीधी से लौटे बावरिया ने एक दैनिक समाचार पत्र से कहा कि सरकार के एहसान की जरूरत नहीं है। कांग्रेस नेताओं की नहीं जनता की सुरक्षा का इंतजाम करें। बैठकों में भाजपा के ही प्रायोजित लोगों द्वारा शोरशराबा करने का प्रयास किया जाता है। कई स्थानों पर ऐसा हो चुका है, रीवा में भी कुछ अज्ञात लोगों ने शोरशराबा किया है। हमें अपने कार्यकर्ताओं से कोई खतरा नहीं है, पार्टी के वालेंटियर और सेवादल के लोग पर्याप्त हैं। भाजपा अपनी सरकार बचाए वह कांग्रेस की चिंता नहीं करे। कांग्रेस की बढ़ती लोकप्रियता से भाजपा में घबराहट है इस कारण वह लगातार पार्टी के कार्यक्रमों को व्यवधान डालने का प्रयास कर रहे हैं।

बोले दिल्ली जाने का पहले से तय था कार्यक्रम
रीवा में हुई घटना के बाद नेताओं को दिल्ली तलब किए जाने की अटकलबाजी पर बावरिया ने कहा कि इसका पहले से ही कार्यक्रम तय था। प्रदेश के सभी बड़े नेताओं को वहां पर साथ बुलाया गया है। जहां चुनाव की तैयारियों पर चर्चा की जाएगी। रीवा एक्सप्रेस से बावरिया और नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह एक साथ दिल्ली के लिए रवाना हुए।

विज्ञापन

Spread the love

You may have missed