April 16, 2021

Suyashgram.com

मासिक पत्रिका एवं वेब न्यूज़ पोर्टल

राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविन्द पहुचे सियाचिन बेस कैंप, जवानो का हौसला बढाया

दिल्ली (सुयश ग्राम) राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद आज सियाचिन आर्मी बेस कैप पहुचकर जवानों का हौसला बढाया| उन्होंने जवानों को संबोधित करते हुए कहा राष्ट्रपति और तीनों सेनाओं के सर्वोच्‍च कमांडर के रूप में आज मैं आपके बीच भारत के सैन्‍य बलों के लिए पूरे देश का आभार संदेश लेकर आया हूं। राष्ट्रपति का पदभार ग्रहण करने के बाद दिल्ली से बाहर अपनी सबसे पहली यात्रा पर मैं अपने सैनिकों से मिलने लद्दाख आया था और सभी तैनात बटालियनों और ‘स्काउट रेजीमेंट सेंटर’ के वीर जवानों से मिला था। उस समय ही मैंने एक संकल्प लिया था कि मैं सियाचिन में तैनात अपने सैनिकों से भी मिलने आऊंगा। आज आप सभी के बीच आकर मेरा वह संकल्‍प पूरा हो रहा है।

श्री कोविंद ने आगे कहा कि आप सभी जवानों और अधिकारियों से मिलने के लिए मैं बहुत उत्सुक था। सियाचिन दुनिया का सर्वाधिक ऊंचाई पर स्‍थित युद्ध-क्षेत्र है और यहां की कठोरतम जलवायु में सामान्‍य जीवन जीना ही कठिन है। ऐसी परिस्‍थिति में दुश्‍मन से युद्ध के लिए तत्‍पर रहना तो बहुत ही मुश्किल होता है। कठोरतम प्राकृतिक चुनौतियों के बीच देश की रक्षा में लगे हुए अपने ऐसे वीर जवानों से आमने-सामने मिलना ही मेरे लिए गर्व की बात है। आप सबसे मिलने की उत्सुकता का एक विशेष कारण था, आप तक यह संदेश पहुंचाना कि देश की सीमाओं की रक्षा करने वाले सभी सैन्‍य कर्मियों और अधिकारियों के लिए हर भारतवासी के दिल में विशेष सम्मान है। देशवासियों के हृदय में आपकी वीरता के प्रति गर्व का भाव भी है। भारत की कोटि-कोटि जनता की यह भावना मैं आप सब तक स्वयं पहुंचाना चाहता था। इसलिए आज आप सबसे मिलकर मुझे बेहद खुशी हो रही है। भारत एक विशाल देश है। भारत-वासियों को अपने देश की इंच-इंच भूमि से गहरा लगाव है। छिहत्तर किलोमीटर की लंबाई और चार-से-आठ किलोमीटर की चौड़ाई वाला यह सियाचिन ग्लेशियर हमारे देश के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। राष्‍ट्र के गौरव का प्रतीक हमारा तिरंगा इस ऊंचाई पर पूरी शान के साथ सदैव लहराता रहे, इसके लिए आप सब बेहद कठिन चुनौतियों का सामना करते रहते हैं। अनेक सैनिकों ने यहां सर्वोच्‍च बलिदान भी दिया है। मैं ऐसे सभी बहादुर ‘सियाचिन वॉरियर्स’ को नमन करता हूँ।

‘राष्ट्रपति भवन’ देश की एक अनमोल धरोहर है। राष्ट्रपति भवन की भव्यता पर हर देशवासी को गर्व है। आप सबका जब भी दिल्ली आना हो, तो राष्ट्रपति भवन को देखने जरूर आएं। आप सबका राष्ट्रपति भवन में स्वागत है।

Spread the love