छत्तीसगढ़

ऐसे ही नहीं होती साहब बालोद मुख्यालय में प्रतिबंधित लकड़ियों की सप्लाई, इसमें इनका भी है हाथ

बंटी देवांगन,  बालोद। 26 जून 200. पूरे वर्ष भर अवैध रूप से हरियाली खत्म करते हुए लकड़ी काट कर परिवहन करने का सिलसिला जारी रहता है। मुख्यालय में ऐसे कई नामचीन लोग इस कृत्य में शामिल हैं इसके साथ ही बालोद मुख्यालय के सभी आरा मिलर्स उस लकड़ी में अपनी हिस्सेदारी रखते हैं। अवैध रूप से प्रतिबंधित लकड़ियों का परिवहन दिन के उजाले में नहीं होता बल्कि इसके लिए रात के अंधेरे का सहारा लिया जाता है ताकि अधिकारी नींद में रहें और उसे इस बात की जानकारी ना हो। मिली जानकारी के अनुसार बालोद मुख्यालय के आरा मिलों में रात 12:00 बजे के बाद से सुबह 5:00 बजे तक के लकड़ियों की सप्लाई की जाती है।

ऐसे बनाते हैं साजिश

मुख्यालय के आरा मिलर्स या तो स्वयं दलाल रखे रहते हैं या फिर दलालों से उनका संपर्क रहता है। दलाल किसानों के पास जाकर पैसों का लालच देते हुए उनके खेतों के पेड़ों को ले जाने की बात बात कहते हैं। भोले भाले किसान इन दलालों के चंगुल में आसानी से आ जाते हैं क्योंकि हैं क्योंकि जाते हैं क्योंकि हैं क्योंकि आ जाते हैं क्योंकि हैं क्योंकि जाते हैं क्योंकि हैं से आ जाते हैं क्योंकि हैं क्योंकि जाते हैं क्योंकि हैं क्योंकि उन्हें ज्यादा जानकारी नहीं होती इसी बात का फायदा वह दलाल उठाते हैं हैं।

खेतों से काटकर स्टॉक कर दी जाती है लकड़ी

बता दें कि कि आरा मिलर दलालों के जरिए किसानों को बहला-फुसलाकर एकत्रित किये लकड़ियों को थोड़ी-थोड़ी मात्रा में अलग-अलग स्थान पर स्टॉक कर रख देते हैं। कई स्थानों में तो अवैध रूप से प्रतिबंधित लकड़ियों के गोले का का जखीरा भी देखने को मिलता है। जिसे प्रतिदिन जरूरत के अनुसार देर रात को अधिकारियों की नजरों से ओझल होते हुए बालोद मुख्यालय के आरा मिल तक सप्लाई की जाती है कई कई आरा आरा मिल में तो अभी भी बिना अनुमति के काटे गए लकड़ियों के इस बार भी देखने को मिल जाएंगे।

पैसों के लिए हरियाली से सौदा

आरा मिलर्स व दलाल चंद पैसों के लिए हरियाली से ही सौदा कर लेते हैं। एक और जहां सरकार हरियाली को बढ़ाने के लिए तमाम तरीके के पैंतरे अपनाते हुए कृषि बी अवसरों पर अवसरों पर पौधे लगा नहीं तो प्रेरित करते हैं तो वहीं दूसरी ओर बालोद मुख्यालय की आरा मिलर्स चंद पैसों के लिए हरे हरे पेड़ों की पेड़ों की बलि दे देते हैं।

पतासाजी कर की जाएगी कार्यवाही

पूरे मामले में वन विभाग बालोद के रेंजर रियाज खान ने कहा कि वन विभाग निगरानी कर रही है। रात में प्रतिबंधित लकड़ी के परिवहन होने की जानकारी आपके माध्यम से मिल रही है पता करता हूं।

Spread the love