इस अवसर पर कबीर संचार अध्ययन केन्द्र के अध्यक्ष  कुणाल शुक्ला, विश्वविद्यालय के कुल सचिव डाॅ. आनंद बहादुर और श्री विवेक ठाकुर भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने कुल सचिव  आनंद बहादुर के कहानी संग्रह ‘ढेला‘ तथा भारत के वरिष्ठ कलाकार श्री संजीव के उपन्यास ‘प्रत्यंचा‘ का भी विमोचन किया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर उपस्थित सभी लोगों को कबीर जयंती की शुभकामनाएं दी।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि संत कबीर साहेब आध्यात्मिक संत के साथ-साथ एक समाज सुधारक और युग-प्रवर्तक मार्गदर्शक थे। जिन्होंने पूरी दुनिया को मानवतावादी समाज की रचना के लिए प्रेरित किया। उन्होंने सामाजिक कुरीतियों पर कठोरता से प्रहार किया। सत्य, अहिंसा, दया, करुणा, परोपकार और सामाजिक समरसता का उनका संदेश आज भी प्रासंगिक है। छत्तीसगढ़ में बड़ी संख्या में उनके अनुयायी हैं। श्री बघेल ने कहा कि संत कबीर साहेब के विचारों को प्रसारित करने का कबीर विचार संचार अध्ययन केन्द्र द्वारा किया गया यह प्रयास सराहनीय है।