छत्तीसगढ़

औद्योगिक और व्यापारिक गतिविधियों के सुचारू संचालन के लिए मिलेगी हर संभव मदद: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

  • मुख्यमंत्री ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए राज्य के विभिन्न औद्योगिक और व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों से की बातचीत
  • उद्योगपतियों ने मुख्यमंत्री के नेतृत्व में कोरोना संक्रमण रोकने और लाॅकडाउन के दौरान किए गए राहत के उपायों को सराहा
  • जिलों में किराना सहित आवश्यक वस्तुओं के परिवहन के लिए ई-पास की अनुमति
  • आटा चक्कियों के संचालन में नहीं है कोई रोक
  • औद्योगिक क्षेत्रों में दी जाएगी स्वास्थ्य परीक्षण की सुविधा
  • थोक बाजारों में होगी सेनिटाईजेशन की व्यवस्था
  • मुख्यमंत्री ने उद्योगों द्वारा मजदूरों के रहने और खाने के किए गए अच्छे प्रबंध की सराहना की
  • चालू उद्योगों में सोशल डिस्टेंसिंग और सुरक्षा के उपायों का कड़ाई से करें पालन

रायपुर, 4 अप्रैल 2020, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोरोना वायरस (कोविड-19) के दौरान लागू लाॅकडाउन और अन्य आवश्यक व्यवस्थाओं के संबंध में आज अपने निवास कार्यालय से वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए राज्य के विभिन्न औद्योगिक और व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों से बातचीत की।

मुख्यमंत्री ने उद्योगपतियों के साथ चर्चा में कहा कि इस संकट की घड़ी में छत्तीसगढ़ सरकार पूरी तरह उनके साथ है, प्रदेश में उद्योग और व्यापार ठीक ढंग से काम कर सकें इसके लिए हर संभव मदद की जाएगी । मुख्यमंत्री ने चर्चा के दौरान उद्योगपतियों द्वारा दिए गए सुझावों पर विचार कर समुचित निर्णय लेने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि प्रदेश के उद्योग और व्यापार के हित में जिन विषयों पर केन्द्र सरकार से बात करने की जरूरत है, उस पर राज्य सरकार उचित पहल करेगी। व्यापारिक प्रतिनिधियोें ने श्रमिकों की समस्या, बिजली की दर, ट्रांसपोर्टिंग प्रारंभ करने जैसे विषयों के संबंध में कुछ सुझाव दिए।

मुख्यमंत्री ने होलसेल मार्केट से विभिन्न जिलों के गांवों की किराना दुकानों में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति में आ रही कठिनाई के संबंध में कहा कि राज्य सरकार ने इन वस्तुओं की ट्रांसपोर्टिंग के लिए ई-पास की अनुमति दी है। व्यापारी ई-पास प्राप्त कर जिलों में सामग्री आसानी से भेज सकते हैं। उन्होंने कहा कि ई-पास में ड्राईवर की फोटो, गाड़ी नम्बर दर्ज रहेगा, इससे उन्हें ट्रांसपोर्टिंग में कठिनाई नही होगी। व्यापारी प्रतिनिधियों ने यह भी बताया कि आटा चक्की नही खुलने से आटे की सप्लाई में कठिनाई आ रही है। मुख्यमंत्री ने इस संबंध में कहा कि आटा चक्कियों पर कोई प्रतिबंध नही है। चक्कियों में गेहूं की पिसाई की जा सकती है। औद्योगिक और व्यापारिक संगठनों ने मुख्यमंत्री से श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने और लाॅकडाउन के दौरान आम जनता को राहत पहंुचाने के किए गए उपायों की सराहना की। मुख्यमंत्री ने इस संबंध में कहा कि सभी के सहयोग से ऐसा संभव हो पाया है। उद्योगों द्वारा बड़ी संख्या में श्रमिकों के रहने और खाने के अच्छे प्रबंध किए गए हैं। जरूरतमंदों को भोजन और राशन सहित आवश्यक वस्तुओं को उपलब्ध कराने में उद्योग और व्यापार जगत का सहयोग सराहनीय है। मुख्यमंत्री ने उनसे यह भी कहा कि जो उद्योग चालू हैं वहां सोशल डिस्टंेसिंग और संक्रमण से सुरक्षा के उपायों का कड़ाई से पालन किया जाए।

उन्होंने बस्तर सहित प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में मजदूरों के काम पर नही आने की समस्या के समाधान के लिए उद्योग विभाग के महाप्रबंधक और जिला प्रशासन के सहयोग से इस संबंध में पहल करने का सुझाव दिया। बस्तर क्षेत्र में महुआ और अन्य लघु वनोपजों की बिक्री स्व-सहायता समूहों के माध्यम से सरकारी एजेंसियों में करने का सुझाव दिया। उन्होंने गांवों से शहरों में सब्जियों की आपूर्ति किसानों के समूह बनाकर करने का सुझाव दिया। श्री बघेल ने आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति में लगे ट्रकों के चालकों के लिए पेट्रोल पंपों में खाने के पैकेट उपलब्ध कराने के व्यापारिक प्रतिनिधियों के सुझाव पर सहमति प्रदान की और व्यवस्था के निर्देश दिए। उन्होंने औद्योगिक क्षेत्रों के ऐसे उद्योगों में जहां काम चल रहा है, वहां मेडिकल टीम के माध्यम से श्रमिकों के नियमित स्वास्थ्य परीक्षण, अनाज, सब्जियों और आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई के लिए जिन बाजारों में सामान आ रहा है, वहां नियमित रूप से सेनेटाईजेशन की व्यवस्था कराने का आश्वासन दिया।

Spread the love

Comment here