छत्तीसगढ़

देखिये वीडियो: 24 दिनों तक वन विभाग ने हाथी का ऐसा किया इलाज की हाथी की हालत देखकर कांप जाएगी आपकी आत्मा, अधिकारी नहीं है गंभीर, डीएफओ को खुद नहीं पता क्या चल रहा इलाज?

कोरबा 7 जुलाई 2020. छत्तीसगढ़ में लगातार हो रही हाथियों की मौत ने पूरे देश भर में प्रदेश की छवि खराब की है. हाथियों की मौत को लेकर केंद्रीय टीम ने भी जांच के लिए छत्तीसगढ़ आई थी. अभी तक जाँच रिपोर्ट का पता नहीं है.

कोरबा वन मंडल के अंतर्गत 24 दिन पहले एक हाथी एक घर में गिरकर बेहोश हो गया था, जिसके बाद कोरबा वन मंडल उसका इलाज कर रहा है. जिस दिन हाथी गिरा था उस दिन का वीडियो देखने और उसके 24 दिन तक लगातार विशेषज्ञ टीम और विभाग के अधिकारीयों के लगातार मेहनत के बाद हाथी का जिस तरह से इलाज हुआ उसे देखने के बाद किसी की भी आत्मा कांप जाएगी। पूरी तरह हाथी सड़ चुका है हाथी के कष्ट को वीडियो देखकर समझा जा सकता है. हालांकि अधिकारी हाथी की हालत को लेकर लगातार तथ्य छुपाना चाहते हैं.

वन मंडल कोरबा के डीएफओ गुरुनाथन ने एसजी न्यूज़ से बात करते हुए पहले तो वीडियो कोरबा का होने से इंकार कर दिया। लेकिन जब एसजी न्यूज़ ने वीडियो में दिख रहे अधिकारी डॉक्टर और महावत का नाम उल्लेख करके कहा कि यह तो वही है. जिसके बाद उन्होंने कहा एक वीडियो हमारे यहां का है. अन्य का पता नहीं। एसजी न्यूज के पास उपलब्ध 4 वीडियो में से 3 दिखाने के लायक नहीं है. हालात इतने खराब है कि न्यूज में प्रकाशन करना अनुचित होगा। डीएफओ कोरबा ने एसजी न्यूज़ को इशारों में धमकी भी दी है इस तरह का प्रकाशन नहीं कर सकते आप. अपनी गलती छुपाने के लिए विभाग के अधिकारी धमकियों पर भी जल्द ही उतर आये.

लापरवाही की पराकाष्ठा: डीएफओ को नहीं पता क्या चल रहा इलाज
डीएफओ की लापरवाही इस बात से साफ नजर आती है कि उन्हें यह नहीं पता है कि उस हाथी का क्या इलाज चल रहा है? और क्या बीमारी है? डीएफओ कोरबा से यह पूछे जाने पर कि क्या 24 दिनों बाद यह पता चल पाया है कि हाथी को क्या बीमारी है ? तो उन्होंने कहा यह डॉक्टर ही बता पाएंगे। आश्चर्य की बात है देशभर में बदनामी होने के बाद सीधे डीएफओ के देखरेख में चल रहे इलाज का पता डीएफओ को ही नहीं है. जब सुपरविजन करने वाले अधिकारी को यह नहीं पता है कि उसका इलाज क्या चल रहा है? और उसे क्या हुआ है? तो किसे पता होगा? यह लापरवाही साफ-साफ दिखाई देती है कि अधिकारी हाथी के जीवन को लेकर गंभीर नहीं हैं.

Spread the love