• कलेक्टर कर सकेंगे भूमि का आवंटन एवं व्यवस्थापन