बड़ी खबर

कोविड-19: कोरोना वायरस की जांच की आवश्यकता कब और कैसे? किन लोगों का परीक्षा कराना है जरूरी? कहां कराएं जांच? देखिए शासन की गाइडलाइन और उपलब्ध जाँच पैथोलाजी का पता..

रायपुर 29 मार्च 2020, सोशल मीडिया में तमाम तरह तरह की भ्रामक जानकारियां प्रसारित होती हैं जिससे आम आदमी भ्रमित हो जाता है. जिसके कारण भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने जरूरी सूचना प्रकाशित की है. जिससे आम व्यक्ति का भ्रम दूर हो सके, मन में उठ रहे कई सवालों के जवाब भी मिल सके. जानिए क्या है सुझाव-

क्या सभी का परीक्षण कराना जरूरी है?
सभी व्यक्तियों की जांच की आवश्यकता नहीं है. क्योंकि मुख्य रूप से यह उन्हीं व्यक्तियों में पाया जाता है जिन्होंने कोविड-19 से प्रभावित देशों की यात्रा की हो या संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में रहे हो.

किन लोगों का परीक्षण कराना जरुरी है?
उन सभी व्यक्तियों का परीक्षा करना है जिनमें करोना वायरस के लक्षण मौजूद हो और

  1. जिन्होंने पिछले 14 दिनों में कोई अंतरराष्ट्रीय यात्रा की हो.
  2. जो किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आए हो.
  3. जो स्वास्थ्य कर्मी हैं.
  4. अस्पतालों में भर्ती सीवियर एक्यूट रेस्पिरेट्री इलनेस (SARI), इनफ्लुएंजा लाइक इलनेस (lLI) या सीवियर निमोनिया जैसी बीमारियों के सभी मरीज की जाँच.

ऐसे लक्षण रहित व्यक्ति जो किसी संक्रमित व्यक्ति से प्रत्यक्ष और उच्च जोखिम संपर्क में आए हो उनका परीक्षण एक बार संपर्क संपर्क में आने के पांचवे दिन और 14 में दिन के बीच में किया जाना चाहिए प्रत्यक्ष और उच्च जोखिम वाले संपर्क निम्न है.
1 जो संक्रमित व्यक्ति के साथ एक ही घर में रहे हो.

2. वह स्वास्थ्य कार्यकर्ता जिन्होंने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा प्रमाणित पर्याप्त सुरक्षा मानकों के बिना किसी संपर्क संक्रमित व्यक्ति की जांच की हो.

जांच के लिए कहाँ है उपलब्ध प्रयोगशाला है?
जांच के लिए भारत सरकार ने अब तक 179 कुल जांच के लिए पैथोलॉजी लैब को मान्यता दी गई है. जिनमें से 122 शासकीय और 47 प्राइवेट पैथोलॉजी लैब हैँ. लैब की विस्तृत लिस्ट जानने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें.

https://drive.google.com/file/d/13YmhvcM3eJBce7Nw5ij3kYKc7kN8_YKX/view?usp=sharing

https://drive.google.com/file/d/1ChYf950_OYJ93KzrzhW3ZV5tWacePGQR/view?usp=sharing

Spread the love

Comment here